गीता

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गीता संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. वह ज्ञानमय उपदेश जो किसी बड़े से माँगने पर मिले । जैसे,—रामगीता, शिवगीता, अनुगीता, उत्तरगीता आदि ।

२. भगवदगीता ।

३. संकीर्ण राग का एक भेद ।

४. २६ मात्रा का एक छद जिसमें १४ और १२ मात्राओं पर विराम होता है । उ॰—मन बावरे अजहूँ समझ संसार भ्रम दरियाउ । इहि तरन को यहीं छोड़ कै कछु नाहिं और उपाय ।—(शब्द॰) ।

५. वृतांत । कथा । हाल । उ॰— सीता गीता पुत्र की सुनि सुनि भी अचेत । मनो चित्र की पुत्रिका कन क्रम बचन समेत ।—केशव (शब्द॰) ।