घबराना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

घबराना ^१ क्रि॰ अ॰ [सं॰ गह्वर > हिं॰ गहबर या हिं॰ गड़बड़ाना]

१. व्याकुल होना । अधीर या अशांत होना । चंचल होना । भय या आशंक से आतुर होना । उद्विग्न होना । जैसे,—(क) उसकी बीमारी का हाल सुन सब घबरा गए । (ख) सेना को आते देख नगरवाले घबराकर भागने लगे ।

२. सकप काना । भौंचक्का होना । किंकर्तव्यविमूढ़ होना । ऐसी अवस्था में होना जिसमें यह न सूझ पड़े कि क्या कहें या क्या करें । हक्काबक्का होना । सिटपिटाना । जैसे,—वकील की जिरह से गवाह घबरा गया ।

३. हड़बड़ाना । उतावली में होना । जल्दी मचाना । आतुर होना । जैसे,—घबराओ मत, थोड़ी देर में चलते हैं ।

३. जी न लगना । उचाट होना । ऊबना । जैसे,— यहाँ अकेले बैठे बैठे जी घबराता है । संयो क्रि॰—उठना । जाना ।

घबराना ^२ क्रि॰ स॰

१. व्याकुल करना । अधिर करना । शांति भंग करना । जैसे,—तुमने तो आकर मुझे घबरा दिया ।

२. भौंचक्का करना । ऐसी अवस्था में डालना जिससे कर्त्तव् न सूझ पड़े ।

३. जलदी में डालना । हड़बड़ी में डालना । जैसे,— उसको घबराओ मत, धीरे धीरे काम करने दो ।

४. हैरान करना । नाकों दस करना ।

५. उचाट करना ।