घिन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

घिन संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ घृणा अथवा घृणि(=अप्रिय)] [क्रि॰ घिनाना । वि॰ घिनौना]

१. चित्त की वह खिन्नता जो किसी बुरी या कुत्सित वस्तु को देख या सुन कर उत्पन्न होती है । अरुचि । नफरत । घृण ।

२. किसी गंदी चीज को देख सुन कर जी मचलाने की सी अवस्था । जी बिगड़ना । क्रि॰ प्र॰—आना ।—लगना । मुहा॰—घिन खाना=घृणा करना । नफरत करना ।