चंचरीकावली

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

चंचरीकावली संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ चञ्चरीकावली]

१. भौंरों की पंक्ति ।

२. तेरह अक्षरों के एक वर्णवृत्त का नामजिसके प्रत्येक चरण में यगण, मगण, दो रगण और एक गुरु होता है । (/?/ /?/) । जैसे,—यमौ रे । रागै छाँड़ौ यहै ईश भावै । न भूलो माधो को विश्व ही जो चलावै । लखौ या पृथ्वी को बाटिका चंपकी ज्यौ । बसौ रागै त्यागै चंचरीकावली ज्यों ।