चंचला

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

चंचला संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ चञ्चला]

१. लक्ष्मी ।

२. बिजली ।

३. पिप्पली ।

४. एक वर्णवृत्त जिसके प्रत्येक चरण में १६ अक्षर होते है (र ज र ज र ल— /?/) । इसका दूसरा नाम चित्र भी है । जैसे,—री जरा जुरी लखो कहाँ गयो हमैं बिहाय । कुंज बीच मोहि तीय ग्वाल बाँसुरी बजाय । देखि गोपिका कहैं परी जु टूटि पुष्प माल । चंचला सखी गई बिलाय आजु नंदलाल ।