चमक

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

संज्ञा[सम्पादन]

  1. रोशनी निकलना

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

चमक संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ चमत्कृत् या अनु॰]

१. प्रकाश । ज्योति । रोशनी । जैसे,—आग या सूर्य की चमक बिजली की चमक ।

२. कांति । दीप्ति । आभा । झलक । दमक । जैसे,—सोने की चमक । कपड़े की चमक । यौ॰—चमक दमक । दमक चाँदनी । मुहा॰—चमक देना या मारना = चमकना । झलकना । चमक लाना = चमक उत्पन्न करना । झलकाना ।

३. कमर आदि का वह दर्द जो चोट लगने या एकबारगी अधिक बल पड़ने के कारण होता है । लचक । चिक । झटका जैसे,—उसकी कमर में चमक आ गई है । क्रि॰ प्र॰—आना ।—पड़ना ।

४. बढ़ना । उ॰—रात को जाड़ा यद्यपि चमक चला था ।— प्रेमघन॰ भा॰ २ ।

५. चौंक । भड़क । उ॰—जइ तूँ ढोला तावियउ काललयारा तीज । चमक मरेसी मारवी, देख खिवंता बीज ।—ढोला॰, दू॰ १५० ।

चमक चाँदनी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ चमक + चाँदनी] बनी ठनी रहनेवाली दुशचरित्रा स्त्री॰ ।

चमक दमक संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ चमक + दमक अनु॰]

१. दीप्ति । आभा । झलक । तड़क भड़क ।

२. ठाठ बाट । लक दक ।— जैसे,—दरबार की चमक दमक देखकर लोग दंग हो गए ।