चाल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

विशेषण

चलने का तरीका, शैली

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

चाल ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ चलना, सं॰ चार ]

१. गति । गमन । चलने की क्रिया । जैसे— इस गाड़ी की चाल बहुत धीमी है ।

२. चलने का ढंग । चलने का ढब । गमन प्रकार । जैसे, —यह घोड़ा बहूत अच्छी चाल चलता है । उ॰— रहिमन सूधी चाल ते प्य़ादा होत वजीर । फरजी मीरन ह्वै सकै, टेढे़ की तासीर ।— रहीम (शब्द॰) ।

३. आचरण । चलन । बर्ताव । व्यवहार । जैसे, — (१) अपनी इसी बुरी चाल से तुम कहीं नहीं टिकने पाते । (२) अपने सुत की चाल न देखत उलटी तू हम पै रिस ठानति । — सुर (शब्द॰) ।

चाल ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. घर का छप्पर या छत । छाजन ।

२. स्वर्णचूड़ पक्षी ।

३. चलना । गतिशील होना (को॰) ।

४. नीलकठ (को॰) ।