छजना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

छजना क्रि॰ अ॰ [सं॰ सज्जन, हिं॰ सजना]

१. शोभा देना । सजना । अच्छा लगना । सोहना । उ॰—(क) बालम के बिछुरे ब्रजबाल को हाल कहयौं न परै कछु ह्याहीं । च्वै सो गई दिन तीन ही में तब औधि लौं क्यों छजिहै छहीं छाहीं ।—केशव (शब्द॰) । (ख) कूबर अनुप रुप छती छजत तैसी छज्जन में मोती लटकत छबी छावने ।—गिरधर (शब्द॰) ।

२. उपयुक्त जान पड़ना । ठीक जँचना । उचित जान पड़ना ।