छड़ी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

छड़ी ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ छड़]

१. सीधी पतली लकड़ी । पतली लाठी ।

२. लहँगे, पाजामे आदि में गोखरू, चुटकी आदि की सिधी टँकाई ।—(दरजी) ।

३. झड़ी जिसे लोग मुसलमान पीरों की मजार पर चढ़ाते हैं । सद्दा । झंड़ी । जैसे, मदार की छड़ी ।

४. गुड़िया पीटने या चौथी छुड़ाने की पतली लकड़ी ।

छड़ी ^२ वि॰ स्त्री॰ [हिं॰ छाँड़ना] अकेली । एकाकिनी । मुहा॰—छड़ी छटाँक या छड़ी सवारी = (१) बिना किसी संगी साथी के । अकेले । एकाकी । (२) बिना कोई बोझ या असबाब लिए । तन तनहा ।