छपकना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

छपकना क्रि॰ अ॰ [हिं॰ छिपना] दे॰ 'छिपने' । उ॰—दबकत छपकत चीता आवै तीनु जने धरि खावै ।—सं॰ दरिया, पृ॰ १२६ ।

छपकना ^२ † क्रि॰ स॰ [हिं॰ छप से अनु॰]

१. पतली कमची से किसी को मारना । पतली लचीली छड़ी से किसी को पीटना ।

२. कटारी या तलवार के आघात से किसी वस्तु को काट डालना । छिन्न करना ।

३. थोडे़ जल में छपछप की आवाज करना । थोड़े पानी में हाथ पैर चलाना ।