जंपना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जंपना पु † क्रि॰ अ॰ [सं॰ जल्प; प्रा॰ जप्प, जप; सं॰ जल्पना] कहना । कथन करना । उ॰—(क) इम जंपै चंद बरद्दिया कहा निघट्टै इय प्रलौ ।—पृ॰ रा॰ ५७ ।२३६ । (ख) सम बनिता बर बंदि चंद जंपिय कोमल कल ।—पृ॰ रा॰, १ ।१३ । (ग) यों कवि भूषण जंपत है लखि संपति को अलकापति लाजै ।—भूषण (शब्द॰) ।