जगजंत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जगजंत पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ जगत् + यन्त्र] जगतचक्र । उ॰— कृपा घन आनंद अधार जगजंत है ।—घनानंद, पृ॰ १६५ ।