जगबन्द

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जगबंद पु वि॰ [सं॰ जगत् + वन्द्य] जिसकी वंदना संसार करे । संसार द्वारा पूजित । जगद्वंद्य । उ॰—आपनपौ जु तज्यों जगबंद है ।—केशव (शब्द॰) ।