जघन्य

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जघन्य ^१ वि॰ [सं॰]

१. अंतिम । चरम ।

२. गर्हित । त्याज्य । अत्यंत बुरा ।

३. क्षुद्र । नीच । निकृष्ट ।

४. निम्न कुलोत्पन्न । नीच कुल का (को॰) ।

जघन्य ^२ संज्ञा पुं॰

१. शूद्र ।

२. नीच जाति । हीन वर्ण ।

३. पीठ का वह भाग जो पुट्ठे के पास होता है ।

४. राजाओं के पाँच प्रकार के संकीर्ण अनुचरों में से एक । विशेष—बृहत्संहिता के अनुसार ऐसा आदमी घनी, मोटी बु्द्धि का, हँसोड़ और क्रूर होता है ओर उसमें कुछ कवित्व शक्ति भी होती है । ऐसे मनुष्य के कान अर्धचंद्राकार, शरीर के जोड़ अधिक दृढ़ और उँगलियाँ मोटी होती हैं । इसकी छाती, हाथों और पैरों में तलबार् और खाँड़े आदि के से चिह्न होते हैं ।

५. दे॰ जघन्यभ ।

६. लिंग । शिश्न (को॰) ।