जन्त्री

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जंत्री ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ यान्त्रिक] वीणा आदि बजानेवाला । बाजा बजानेवाला ।

जंत्री ^२ वि॰ यंत्रित करनेवाला । बद्ध करनेवाला । जकड़बंद करनेवाला ।

जंत्री ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ यन्त्रिन्] बाजा । उ॰—बाजन दे बैजंतरा जग जंत्री ना छेड़ । तुझे विरानी क्या पड़ी अपनी आप निवेर ।— कबीर (शब्द॰) ।

जंत्री ^४ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰] एक प्रकार का तिथिपत्र । पत्रा । जंतरी ।