जयति

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जयति संज्ञा पुं॰ [सं॰ जयेत्] एक संकर राग जो गौरी और ललित के मेल से बनता है । कोई कोई इसे पूरिया और कल्याण के योग से बना भी मानते है । वि॰ दे॰ 'जयेत्' ।