जलाना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

क्रिया[सम्पादन]

  1. अग्नि के हवाले करना, आग लगा देना

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जलाना ^१ क्रि॰ स॰ [हिं॰ 'जलना' का सक॰ रूप]

१. किसी पदार्थ को अग्नि के संयोग से अंगारे या लपट के रूप में कर देना । प्रज्वलित करना । जैसे, आग जलाना, दीया जलाना ।

२. किसी पदार्थ को बहुत गरमो पहुँचाकर या आँच की सहायता से भाप या कोयले आदि के रूप में करना । जैसे, अँगारे पर रोटी जलाना, काढ़े का पानी जलाना ।

३. आँच के द्वारा विकृत या पोड़ित करना । झुलसाना । जैसे—अंगारे से हाथ जलाना ।

४. किसी के मन में डाह, ईर्ष्या या द्वेष आदि उत्पन्न करना । किसी के मन में संताप उत्पन्न करना । मुहा॰—जला जलाकर मारना=बहुत दुःख देना । खूब तंग करना ।

जलाना पु ^२ क्रि॰ उ॰ [हिं॰ जल + आना(प्रत्य॰)] जलमग्न होना । जलमय होना । उ॰—महा प्रलय जब होवे भाई । स्वर्ग मृत्यु पाताल जलाई ।—कबीर सा॰, पृ॰ २४३ ।