जाड़ा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जाड़ा संज्ञा पुं॰ [सं॰ जड़]

१. वह ऋतु जिसमें बहुत ठंडक पड़ती हो । शीतकाल । सरदी का मौसम । विशेष—भारतवर्ष में जाड़ा प्राय:अगहन के मध्य से आरंभ होता है और फागुन के आरंभ तक रहता है ।

२. सरदी । शीत । पाला । ठंढ । क्रि॰ प्र॰—पड़ना ।—लगना ।