जाया

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जाया ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. विबाहिता स्त्री । पत्नी । जोरू । विशेषतः वह स्त्री जो किसी बालक को जन्म दे चुकी हो । उ॰—जरा मरन ते रहित अमाया । मात पिता सुत बंधु न जाया ।—सूर (शब्द॰) ।

२. उपजाति वृत्त का सतवाँ भेद जिसके पहले तीन चरमों में ( ज त ज ग ग ) /?/ /?/ और चौथे चरण में (त त ज ग ग ) /?/ /?/ होता है ।

३. जन्मकुंडली में लग्न से सातवाँ स्थान जहाँ से पत्नी के संबंध की गणना की जाती है ।

जाया ^२ वि॰ [अ॰ जाये या फा़॰ जायह्] खराब । नष्ट । व्यर्थ । खोया हुआ । क्रि॰ प्र॰—करना ।—जाना ।—होना ।