जुवा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जुवा † ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ द्यूत, हिं॰ जुआ] दे॰ 'जुआ' । उ॰— जुवा खेल खेलन गई जोषित जोबन जोर । क्यों न गई तैं मति भई सुन सुरही के सोर ।—स॰ सप्तक, पृ॰ ३६४ ।

जुवा पु ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ युवा] दे॰ 'युवती' । उ॰—साजि साज कुंजन गई लख्यौ न नंदकुमार । रही ठौर ठाढ़ी ठगी जुवा जुवा सी हार ।—स॰ सप्तक, पृ॰ ३८८ ।

जुवा पु ^३ वि॰ [हिं॰ जुदा] दे॰ 'जुदा' । उ॰— मन मिलिमोड़ा तिकाँ माढ़वाँ, जीभ करै खिण माँह जुवा ।—बाँकी॰ ग्रं॰, भा॰ ३, पृ॰ १०३ ।

जुवा ^४ वि॰ [हिं॰] दे॰ 'युवा' । उ॰—गावति गीत सबै मिलि सुंदरि, बेद जुरि विप्र पढ़ाहीं ।—तुलसी ग्रं॰, पृ॰ १५९ ।