जैमिनि

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

जैमिनि संज्ञा पुं॰ [सं॰] पूर्वमीमांसा के प्रवर्तक एक ऋषि जो व्यास जी के४ मनुष्य शिष्यों में से एक थे । विशेष—कहते हैं, इनकी रची एक भारतसंहिता भी थी जिसका अब केवल अश्वमेध पर्व ही मिलता है । यह अश्वमेध पर्व व्यास के अश्वमेध पर्व से बडा है, पर कई नई बातों के समावेश के कारण इसकी प्रामाणिकता में संदेह है ।