झंकार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

झंकार संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ झङ्कार]

१. झंझनाहट का शब्द जो किसी धातुखंड से निकलता है । झन् झन् शब्द । झनकार । जैसे, पाजेब की झंकार, झाँझ की झंकार । उ॰— शुभे, धन्य झंकार है धाम में, रहे किंतु टंकार संग्राम में ।— साकेत, पृ॰ ३०५ ।

२. झींगुर आदि छोटे छोटे जानवरों के बोलने का शब्द जो प्रायः झन् झन् होता है । झनकार । जैसे, झिल्लियों की झंकार ।

३. झन् झन् शब्द होने का भाव ।