झबूकना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

झबूकना † क्रि॰ अ॰ [अनु॰]

१. चमकना । जगमगाना । दीप्त होना । ज्योतित होना । उ॰—(क) मंदिर माँहि झबूकती दीवा कैषी जोति । हंस बटाऊ चलि गया काढ़ौ धर की छोति ।—कबीर ग्रं॰, पृ॰ ७३ । (ख) भभूकै उड़ै यों झबूकै फुलंगा । मनो अग्नि बेताल नच्चैं खुलंगा ।—सूदन (शब्द) ।

२. झझकना ।