झाड़ू

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

झाड़ू संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ झाड़ना]

१. बहुत सी लंबी सीकों आदि का समूह जिससे जमीन, फर्श आदि झाड़ते हैं । र्कूचा । बोहारी । सोहती । बढ़नी । मुहा॰— झाड़ू देना = (१) झाड़ू की सहायता से कूड़ा करकट साफ करना । (२) दे॰ 'झाड़ फेरना' । झाड़ू फिरना = सफाया हो जाना । कुछ न रहना । झाड़ू फेरना = बिलकुल नष्ट कर देना । झाड़ू । मारना = (१) घृणा करना । (२) निरादर करना । (स्त्रि॰) ।

२. पुच्छल तारा । कंतु । दुमदार सितारा ।