टँगना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टँगना ^१ क्रि॰ अ॰ [सं॰ टङ्कण या टङ्गण ( = जड़ा जाना)]

१. किसी वस्तु का किसी उँचे आधार पर बहुत थोड़ा सा इस प्रकार अटकना या ठहरा रहना कि उसका प्रायः सब भाग उस आधार से नीचे की ओर गया हो । किसी वस्तु का दूसरी वस्तु से इस प्रकार बँधना या फँसना अथवा उसपर इस प्रकार टिकना या अटकना कि उसका (प्रथम वस्तु का) बहुत सा भाग नीचे की ओर लटकता रहे । लटकना । जैसे, (खूँटी पर) कपड़े टँगना, परदा टंगना, तसवीर टँगना । विशेष—यदि किसी वस्तु का बहुत सा अंश आधार पर हो और थोड़ा सा अंश आधार के नीचे लटका हो तो उस वस्तु को टंगी हुई नहीं कहेंगे । 'टँगना' और 'लटकना' में यह अंतर है कि 'टँगना' क्रिया में वस्तु के फसने या टिकने या अटकने का भाव प्रधान है और 'लटकना' में उसके बहुत से अंश का नीचे की ओर अधर में दूर तक जाने का भाव । संयो॰ क्रि॰—उठना ।—जाना ।

२. फाँसी पर चढ़ना । फाँसी लटकना । संयो क्रि॰—जाना ।

टँगना ^२ संज्ञा पुं॰

१. वह आड़ी बँधी हुई रस्सी जिसपर कपड़े आदि टाँगे या रखे जाते हैं । अलगनी । बिलगनी ।

२. जुलाहों की वह रस्सी जिसमें उठौनी टाँगी जाती है ।

३. वह फंदा जिसे मेटी, लोटे आदि के गले में फंसाकर हाथ में लटकाए हुए ले चलने के लिये बनाते हैं ।