टरकाना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टरकाना क्रि॰ स॰ [हिं॰ टरकना]

१. एक स्थान से दूसरे स्थान पर कर देना । हटाना । खिसकाना । जैसे,—(क) देखते रहो, ये चीजें इधर उधर टरकाने न पावें । (ख) जब कोई ढूँढ़ने आवे तब इस लड़के को कहीं टरका दो ।

२. किसी काम के लिये आए हुए मनुष्य को बिना उसका काम पूरा किए कोई बहाना कर के लौटा देना । टाल देना । चलता करना । धता बताना । जैसे,—जब हम अपना रुपया माँगने आते हैं तो तुम यों ही टरका देते हो ।