टस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टस संज्ञा स्त्री॰ [अनु॰]

१. किसी भारी चीज के खिसकने का शब्द । टसकने का शब्द । मुहा॰—टस से मस न होना= (१) किसी भारी चीज का जरा सी भी जगह न छोड़ना । कुछ भी न खिसकना । (२) किसी कड़ी वस्तु का (पकाने या पलाने आदि से) जरा सी भी न गलना ।

३. कहने सुनने का कुछ भी प्रभाव न पड़ना । किसी के अनुकूल कुछ भी प्रवृत्त न होना ।

४. कपड़े आदि फटने का शब्द । मसकने का शब्द ।