टाँच

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टाँच ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ टाँकी] ऐसा वचन जिससे किसी का चित्त फिर जाय और वह जो कुछ दूसरे का कार्य करनेवाला हो, उसे न करे । दूसरे का काम बिगाड़नेवाली बात या वचन । भाँजी । उ॰—मेरे व्यवहारों में टाँच मारी है, मेरे मित्रों को ठंढा और मेरे शत्रुओं को गर्म किया है ।— भारतेंदु॰ ग्रं॰, भाग॰ १, पृ॰ ५९९ । क्रि॰ प्र॰—मारना ।

टाँच ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ टाँका]

१. टाँका । सिलाई । डोभ ।

२. टँकी हुई चकती । थिगली । उ॰—देह जीव जोग के सखा मृषा टाँच न ठाँचा ।—तुलसी (शब्द॰) ।

३. छेद । सूराख ।

टाँच † ^३ संज्ञा स्त्री॰ [देश॰] हाथ पैर का सुत्र पड़ जाना या सो जाना । टाँस । क्रि॰ प्र॰—धरना ।—पकड़ना ।— होना ।