टाँड़

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

टाँड़ ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ स्थाणु]

१. लकड़ी के खंभों पर या दो दीवारों के बीच लकड़ी की पटरियाँ या बाँस के लट्ठे ठहरा कर बनाई हुई पाटन जिसपर चीज असबाब रखते हैं । परछती ।

२. मचान जिसपर बैठकर खेत की रखवाली करते हैं ।

३. गुल्ली डंडे के खेल में गुल्ली पर डंडे का आघात । टोला । क्रि॰ प्र॰—मारना ।—लगाना ।