ठकना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठकना ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ ढक् (= छिपाना)] [स्त्री॰ अल्पा॰ ढकनी] वह वस्तु जिसे ऊपर डाल देने या बैठा देने से नीचे की वस्तु छिप जाय या बंद हो जाय । ढक्कन । चपनी ।