ठकुराई

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठकुराई संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ठाकुर]

१. आधिपत्य । प्रभुत्व । सरदारी । प्रधानता । उ॰—अब तुलसी गिरधर बिनु गोकुल को करिहै ठकुराई ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२. ठाकुर का अधिकार । स्वामी होने के अधिकार का उपयोग । जैसे,—खेल में कैसी ठकुराई ? उ॰—न्याव न किय कीनी ठकुराई । बिना किए लिखि दीनि बुराई ।—जायसी (शब्द॰) ।

३. वह प्रदेश जो किसी ठाकुर या सरदार के अधिकार में हो । राज्य । रियासत ।

४. उच्चता । बड़प्पन । महत्व । बड़ाई । उ॰— हरि कै जन की अति ठकुराई । महारज ऋषिराज राजहुँ देखत रहे लबाई ।—सूर (शब्द॰) ।