ठटरी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठटरी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ठाट]

१. हड्डियों का डाँचा । अस्थिपंजर । मुहा॰—ठटरी होना = दुबला होना । कृशांग होना ।

२. घास भूसा आदि बाँधने का जाल । खरिया । खड़िया ।

३. किसी वस्तु का ढाँचा ।

४. मुरदा उठाने की रथी । अरथी ।