ठण्ढक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठंढक संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ठंढा + क (प्रत्य॰)]

१. शीत । सरदी । उष्णता या गरमी का ऐसा अभाव जिसका विशेष रूप से अनुभव हो । मुहा॰—ठंढक पड़ना = शीत का संचार होना । सरदी फैलना । ठंढक लगना = शीत का अनुभव होना । शीत का प्रभाव पड़ना ।

२. ताप वा जलन की कमी । ताप की शांति । तरी । क्रि॰ प्र—आना ।

३. प्रिय वस्तु की प्राप्ति या इच्छा की पूर्ति से उत्पन्न संतोष । तुप्ति । प्रसन्नता । तसल्ली । क्रि॰ प्र॰—पड़ना ।

४. किसी उपद्रव या फैले हुए रोग आदि की शांति । किसी हलचल या फैली हुई बीमारी आदि की कमी या अभाव । जैसे,— इधर शहर में हैजे का बड़ा जोर था पर अब ठंढक पड़ गई है । क्रि॰ प्र॰—पड़ना ।