ठनकना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठनकना क्रि॰ अ॰ [अनुध्व॰ ठन ठन]

१. ठन ठन शब्द॰ करना । धातुखंड़ अथवा चमड़े से मढ़े बाजे आदि का आघात पाकर बजना । जैसे, तबला ठनकना ।

२. रह रहकर आघात पड़ने की सी पीड़ा होना । जैसे, माथा ठनकना । मुहा॰—तबला ठनकना = नृत्य गीत आदि होना । उ॰—हम ओ रस्ते रात के आवत रहे तो तबला ठनकत रहा ।— भारतेंदु ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ ३२६ । माथा ठनकना = किसी बुरे लक्षण को देखकर चित्त में घोर आशंका उत्पन्न होना । जैसे, तार पाते ही माथा ठनका ।