ठप

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठप संज्ञा पुं॰ [अनुध्व॰]

१. खुले हुए ग्रंथ को एकाएक बंद करने से उत्पन्न शब्द या ध्वनि ।

२. किसी कार्य या ब्यापार का पूरी तरह बंद रहना या रुक जाना । क्रि॰ प्र॰—करना ।—रहना ।—होना ।