ठबक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठबक † संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ठपका] आघात । ठोकर । ठेस । उ॰— या तनु को कह गर्व करत हैं ओला ज्यों गल जावै रे । जैसे बर्तन बनो काँच को ठबक लगे बिगसावै रे ।—राम॰ धर्म, पृ॰ ३६० ।

ठबक † संज्ञा पुं॰ [हि॰ ठोंक] आघात । थपकी । ठोंका । उ॰— पवन ठवक लगि ताहि जगावै । तब ऊरध को शीश उठावै ।— चरण॰ बानी, पृ॰ ८० ।