ठसका

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठसका संज्ञा पुं॰ [अनुध्व॰]

१. वह खाँसी जिसमें कफ न निकले और गले से ठन ठन शब्द निकले । सूखी खाँसी ।

२. ठोकर । धक्का । क्रि॰ प्र॰—खाना ।—मारना ।—लगना ।