ठहर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठहर संज्ञा पुं॰ [सं॰ स्थल या स्थिर]

१. स्थान । जगह । उ॰—ठाकुर महेस ठकुराइनि उमा सी जहाँ लोक बेद हुँ विदित महिमा ठहर की ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२. रसोई के लिये मिट्ठी से लिपा हुआ स्थान । चौका ।

३. रसोईघर आदि मिट्ठी की लिपाई । पोताई । चौका । उ॰—नेम अचार षटकर्म नहीं नाँहीं पाँति को पान । चौका चंदन ठहर नहीं मीठा देव निदान ।—सं॰ दरिया॰, पृ॰ ३८ । क्रि॰ प्र॰—लगाना । मुहा॰—ठहर देना = रसोईघर वा भोजन के स्थान को लीप पोत— कर स्वच्छ करना । चौका लगाना ।