ठाँयँ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ठाँयँ ^१ संज्ञा पुं॰ स्त्री॰, [सं॰ स्थान, प्रा॰ ठाण]

१. स्थान । जगह । ठिकाना । विशेष—दे॰ 'ठाँव' ।

२. समीप । निकट । पास । उ॰—जिन लगि निज परलोक बिगारयो ते लजात होत ठाढ़े ठाँय ।—तुलसी (शब्द॰) ।

ठाँयँ ^२ संज्ञा पुं॰ [अनुध्व॰] बंदूक छूटने का शब्द । जैसे,—ठाँय से गोली मार दो ।

ठाँयँ ठाँयँ संज्ञा स्त्री॰ [अनुध्व॰]

१. लगातर बंदूक छूटने का शब्द ।

२. रगड़ा । झगड़ा । उ॰—खैर अब इस ठाँयँ ठाँयँ से क्या मतलब ।—फिसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ ७७ ।