डींग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

डींग संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ डीह (=उड़ान)] लंबी चौड़ी बात । खूब बढ बढ़कर कही हुई बात । अपनी बढ़ाई की झूठी बात । अभिमान की बात । शेखी । सिट्ट । क्रि॰ प्र॰—उड़ाना । उ॰—माखँ घुटना फूठे आँख । मूई डींग उड़ा रही है जमाने भर की ।—फिसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ १५१ ।—मारना ।—हाँकना । मुहा॰—डीँग की लेना = शेखी बघारना ।