ड्यूक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ड्यूक संज्ञा पुं॰ [अं॰] [स्त्री॰ डचेज]

१. इंगलैंड, फ्रांस, इटली आदि देशों के सामंतों और भूम्यधिकारियों की वंशपरंपरागत उपाधि । इंगलैड के सामंतौ और भूम्यधिकारियों को दी जानेवाली सर्वोच्च उपाधि जिसका दर्जा प्रिंस के नीचे है । जैसे, कनाट के ड्यूक, विंडसर के ड्यूक । विशेष—जैसे हमारे देश में सामंत राजाओं तथा बड़े बड़े जमींदारों को सरकार से महाराजाधिराज, महाराजा, राजाबहादुर, राजा आदि उपाधियाँ मिलती हैं, उसी प्रकार इंगलैड में सामंतों तथा बड़े बड़े जमींदारौ को ड्यूक, मार्क्विस, अर्ल, वाईकौंट, बैरन आदि की उपाधियाँ मिलती हैं । ये उपाधियाँ वंशपरंपरा के लिये होती है । उपाधि पानेवाले के मरने पर उसका ज्येष्ठ पुत्र या उत्तराधिकारी उपाधि का भी अधिकारी होता है । इस प्रकार अधिकारी क्रम से उस वंश में उपाधि बनी रहती है । अब यह भी नियम हो गया है कि जिसे सरकार चाहे केवल जीवन भर के लिये उपाधि प्रदान करे । मार्क्विस, अर्ल, बाइकौंट और बैरन उपाधिधारी लार्ड कहलाते हैं । माक्विंस, बैरन आदि उपाधियाँ जापान में भी प्रचलित हो गई हैं ।

२. सामंत । सरदार । राजा ।