ढका

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढका ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ आढक] तीन सेर की एक तौल या बाट ।

ढका ^२ संज्ञा पुं॰ [अं॰ डाक] घाट । जहाज ठहरने का स्थान । (लश॰) ।

ढका पु † ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ ढक्का] बड़ा ढोल । उ॰—नदति दुंदुभि ढका बदन मारु हका, चलत लागत धका कहत आगे ।— सूदन (शब्द॰) ।

ढका ^४ संज्ञा पुं॰ [अनु॰] धक्क । टक्कर । उ॰— (क) ढकनि ढकेलि पेलि सचिव चले लै ठेलि नाथ न चखेगो बल अनल भयावनो ।— तुलसी (शब्द॰) । (ख) चढ़ि गढ भढ़ दृढ़ कोट के कँगूरे कोपि नेकु ढका दैहैं ढेलन की डेरी सी ।— तुलसी (शब्द॰) ।