ढ़ड्ढा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढ़ड्ढा ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ठाट]

१. ढाँचा । अंगों की वह स्थूल योजना जो किसी वस्तु की लचना के प्रारंभ में की जाती है । क्रि॰ प्र॰—खड़ा करना ।

२. आडंबर । दिखावट का सामान । झूठा ठाट बाट । क्रि॰ प्र॰— खड़ा करना ।