ढीठ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढीठ वि॰ [सं॰ धृष्ट , प्रा,॰ ढिट्ठ]

१. वह जो गुरुजनों के सामने ऐसा काम करे जो अनुचित हो । बड़ों का संकोच या डर न रखनेवाला । बड़ों के सामने अनुचित स्वच्छदता प्रकट करनेवाला । बेअदव । शोख । उ॰— बिनु पूछे कछु कहउँ गोसाई । सेवक समय न ढीठ ढिठाई ।—तुलसी (शब्द॰)

२. किसी काम को करने में उसके परिणाम का भय न करनेवाला । ऐसे कामों में आगा पीछा न करनेवाला जिनसे लोगों का विरोध हो । अनुचित साहस करनेवाला । बिना डर का । उ॰— ऐसे ढीठ भए हैं कान्हा दघि गिराय मटकी सब फोरी ।— सूर (शब्द॰) ।

३. साहसी । हिम्मतवर । हियाववाला । किसी बात से जल्दी न डर जानेवाला ।