ढूकड़ा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढूकड़ा † अव्य॰ [सं॰ √ढौक, प्रा॰ ढुक्क] पास । निकट । समीप । उ॰— वागरवाल विचारियऊ, ए मति उत्तिम कीध । साल्ह महलहूँ ढूकड़ा, ढाढ़ी डेरउ लीध ।—ढोला॰ दू॰ १८७ ।