तंद्रिक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तंद्रिक संज्ञा पुं॰ [सं॰ तन्द्रिक] एक प्रकार का ज्वर [को॰] ।

तंद्रिक सन्निपात संज्ञा पुं॰ [सं॰] ऐसा सन्निपात ज्वर जिसमें उँघाई विशेष आए, ज्वर वेग से चढे, प्यास विशेष लगे, जीभ काली होकर खुरखुरी हो जाय, दम फूले, दस्त विशेष हों, जलन न हो और कान में दर्द रहे । इसकी अवधि २५ दिन है ।