तकिया

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तकिया संज्ञा पुं॰ [फ़ा॰ तकियह्]

१. कपड़े का बना हुआ लंबो— तरा, गोल या चौकौर थैला जिसमें रूई, पर आदि भरते हैं और जिसे सोने लेटने आदि के समय सिर के नीचे रखते हैं । बालिश । उपधान ।

२. पत्थर की वह पटिया आदि जो छज्जे, रोक या सहारे कि लेय लगाई जाती है । मुतक्का ।

३. विश्राम करने या आश्रय लेने का स्थान ।

४. आश्रय । सहारा । आसरा । भरोसा । उ॰—तहँ तुलसी के कौल कौ काको तकिया रे ।—तुलसी (शब्द॰) । यौ॰—तकियाकलाम ।

५. वह स्थान विशेषतः शहर के बाहर था कब्रिस्तान के पास का स्थान जहाँ कोई मुसलमान फकरी रहता हो । कब्रिस्तान का स्थान ।

६. चारजामाँ । (लश॰) ।

तकिया कलाम संज्ञा पुं॰ [फा॰ तकियह् + अ॰ कलाम] दे॰ 'सखुनतकिया' ।