तरु

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तरु ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वृक्ष । पेड़ ।

२. गति । वेग (को॰) ।

३. काठ का एक पात्र जिसमें सोम लिया जाता था (को॰) ।

४. एक प्रकार का चीड़ जिसके पेड़ खसिया की पहाड़ी, चटगाँव और बरमा में होते हैं । विशेष—इसमें से जो बिरोजा या गोंद निकलता है, वह सबसे अच्छा होता है । तारपीन का तेल भी इससे बहुत अच्छा निकलता है ।

तरु ^२ वि॰ रक्षक । रक्षा करनेवाला ।