तवा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search
विकिपीडिया
तवा को विकिपीडिया,
एक मुक्त ज्ञानकोश में देखें।

हिन्दी

संज्ञा

पू.

  1. लोहे का गोलाकार जो खाने की लिए इस्तेमाल होता है

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

तवा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ तवना (= जलना)]

१. लोहे का एक छिछला गोल बरतन जिसपर रोटी सेंकते हैं । क्रि॰ प्र॰—चढ़ाना । मुहा॰— तवा सा मुँह = कालिख लगे हुए तवे की तरह काला मुँह । तवा सिर से बाँधना = सिर पर प्रहर सहने के लिये तैयार होना । अपने को खूब दृढ़ और सुरक्षित करना । तवे का हँसना = तवे के नीचे जमी हुई कालिख का बहुत जलते जलते लाल हो जाना जिससे घर में विवाद होने का कुशकुन समझा जाता है । तवे की बूँद = (१) क्षणस्थायी । देर तक न टिकानेवाला । नश्वर । (२) जो कुछ भी न मालूम हो । जिससे कुछ भी तृप्ति न हो । जैसे,— इतने से उसका क्या होता है, इसे तवे की बूँद समझो ।

२. मिट्टी या खपडे़ का गोल ठिकरा जिसे चिलम पर रखकर तमाखू पीते हैं ।

३. एक प्रकार की लाल मिट्टी जो हींग में मेल देने के काम में आती है ।

३. तवे के आकार का साधन जो युद्ध में बचाने के विचार से छाती पर रहता था ।