तारन

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तारन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ तारण] दे॰ 'तारण' । उ॰—(क) हम तुम्ह तारन तेज घन सुंदर, नीके सौं निरबहिये ।—दादू॰, पृ॰ ५५१ । (ख) जग कारन, तारन भव, भंजन धरनी भार ।—तुलसी (शब्द॰) ।

तारन ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ तर(=नीचे?)]

१. छत की ढाल । छाजन की ढाल ।

२. छप्पर का वह बाँस जी काँड़ियों के नीचे रहता हैं ।